Wednesday, February 23, 2011

क्या निराश हुआ जाये ?

टूट चुकी है सपनो का घरौंदा
लुट चुकी है अपनों की दुनिया
नदी सी बीच प्रवाह में
अनजानी सी राह में
भटक रहा हूँ मैं
जहाँ अँधेरा ही अँधेरा है
है आँखों में आंसू के सैलाब
दिल में जख्मो का डेरा है
शेष क्या रहा अब जीवन में
फ़िर भी धरकने कहती
क्या निराश हुआ जाय ?

अब प्रकृति के नियम पे
मेरी गर गई दृष्टी
'एक' है जो विनाश करता
एक ही करता है नव श्रृष्टि.
सूरज आज अंधेरे से निकल के
कल नव प्रभात ले आयेगी
जनता मैं भी विधि के विधान को
इस लोक के हैवान को,उस लोक के भगवान को
"समय सरे जख्मो को भर देती है"
असमंजस्य में हूँ तुम्ही बता दो
क्या इसपे विश्वास किया जाय ?

जिंदगी के रंग हज़ार,
कभी पतझर कभी बहार
कभी भर देती है असीम खुशिया
कभी कर देती है दिल को तार-तार
भरती है कोयल जीवन में राग
अच्छी लगाती है प्यार-अनुराग
सब किताबी बातें है,मेल नही जीवन में इसका
जब दिखे चरों तरफ़ आग ही आग
बदलेगी कुछ मंजर
रखती है कुदरत सबपे नजर
क्रूर मजाक तो कर लिया
उसने मुझे दुःख ही दुःख दिया
मैं तो अर्धमूर्छित हूँ
बहुत ही व्यथित हूँ
अन्तःकरण से एक सवाल उठे
"कुछ अच्छा होने की "
क्या आश किया जाय?

Tuesday, January 25, 2011

सिम्प्लेक्स-- एक झलक

सिम्प्लेक्स सौम्यता का प्रतीक है।
सिम्प्लेक्स सभ्यता का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स मधुरता का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स एकता का प्रतीक है ।

सिम्प्लेक्स मित्रता का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स बंधुता का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स पवित्रता का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स चरित्रता का प्रतीक है ।

सिम्प्लेक्स जन-उत्थान का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स जन-कल्याण का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स अभिमान का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स सम्मान का प्रतीक है ।

सिम्प्लेक्स विश्वाश का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स उल्लाष का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स आशा का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स अभिलाषा का प्रतीक है ।

सिम्प्लेक्स जोश-उमंग-उन्माद का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स मजबूत फौलाद का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स गति-रथ का प्रतीक है ।
सिम्प्लेक्स प्रगति-पथ का प्रतीक है ।




रेपुब्लीक डे

मै एम आर मेनन सिम्प्लेक्स परिवार की ओर से ६९ गणतंत्र दिवस की शुभ अवसर पे आप सभी का

स्वागत करता हूँ और साथ ही आप सभी को गणतंत्र दिवस की बधाई देता हूँ

आज का दिन बड़े हर्ष-उल्लास का दिन है .आज के ही दिन हमारे महापुरुषों ने खुली हवाओं में सांस लेने का अधिकार दिलवाया .ये दिन हमें देश के प्रति त्याग एवम बलिदान की परिभाषा समझाती है । इस दिन देश के प्रति हमें अपनी-अपनी जिम्मेदारियों एवम कर्तव्यों को याद दिलाती है


आज के इस पावन अवसर पे हमारे सिम्प्लेक्स समूह की ओर से कुछ विशेष कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है. इस कार्क्रम के मुख्य अतिथि वैशाली नगर के विधान सभा के विधायक माननीय श्री भजन सिंह निरंकारी जी

है.हम माननीय अतिथि महोदय का हार्दिक स्वागत करते है

मै श्री -------- से अनुरोध करता हूँ की वे फूलों की गुलदस्ता से मुख्य अतिथि महोदय का स्वागत करें

धन्यवाद ।।।


जैसा की आप सभी जानते है की हमारे मुख्य अतिथि श्री निरंकारी जी किसी परिचय का मोहताज़ नहीं है उनके द्वारा किये गये अनेक सामाजिक कार्य ही उनका असाधारण परिचय हैये श्री मान महोदय जी की शख्शियत है की उन्हें वैशाली नगर विधान सभा के साथ-साथ समस्त दुर्ग जिले में लोकप्रिय है.ऐसे लोकप्रिय एवम कर्मठ नेता का हम दिल से आभार प्रकट करते है


माननीय निरंकारी जी शुरू से ही कांग्रेस पार्टी के उम्दा और जोशीले नेता होने का परिचय देते रहे तथा अपनी पार्टी के विभिन्न पदों पर रह के जिम्मेदारी का निर्वाह किये हैउनकी प्रशाशनिक योग्यता को देखते हुए उन्हें साडा ke अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौपीं गयी जिसका उन्होंने बखूबी से निरवाह करते हुए भिलाई में बहुत विकासपूर्ण कार्य किये है


माननीय निरंकारी जी हमेशा सिम्प्लेक्स समूह के शुभ-चिन्तक रहें है तथा कामगारों की उन्नति के लिए सदैव तत्पर रहे है और कई तरह के विकास योजनायें लागू कियें है

हम अपने - aapko saubhagyshali










Friday, December 31, 2010

Happy new year 2011

नया साल मुबारक हो

सूरज की पहली किरण से
पानी की मधुर गुंजन से
हवा की ठंडी सिहरन से

नया साल मुबारक हो
नन्हें बच्चों की मीठी चुम्बन से

खेतों की हरियाली से
किसानो की खुशहाली से
धानों की बाली से

नया साल मुबारक हो
फूलों की डाली से


चिड़ियों की चिहुंकन से

मोरनी की थिरकन से
बुलबुल की छम-छम से
naya साल मुबारक हो
पायलों की छन-छन से
नए जोश नए उमंग से

नये जज्बा नए तरंग से
नए धैर्य नए हौंसलें से
नए चुनौती नए फैसलें से
ठाट-बाट आन-बान-शान से

नया साल मुबारक हो
जय हिंद जय हिन्दुस्तान से
writen by SUNIL KUMAR SONU
ON 31/12/10

Tuesday, December 1, 2009

KNOW AIDS FOR NO AIDS

मैं एड्स हूँ
एक खतरनाक बीमारी
इसलिए कहता हूँ
रखो एड्स की सही जानकारी।

एड्स ऐसे फैलता है :--
असुरक्षित यौन संबंध बनने से
संक्रमित सुई लगाने से
hiv+ माँ द्वारा नवजात शिशु को स्तनपान कराने से
संक्रमित खून के आदान-प्रदान से


लेकिन एड्स ऐसे नही फैलता है:--
हाथ या गले मिलाने से
चुम्मा या प्यार जताने से
संग रहने से या खाने-पीने से
तिलचट्टा या मच्छर काटने से
एड्स का लक्षण है :--

** लंबे समय तक बुखार रहना
** चेहरे पे बरे-बरे फोरे-फुन्सी हो जाना
**राग प्रतिरोधक क्षमता घट जाना
**लगातार वजन घटते रहना
**आत्मविश्वाश डगमगा जाना
एड्स से बचने के उपाय :--

#नशा से दूर रहें
हमेशा कंडोम का उपयाग करें.
#जोश में आके होश न गवाएँ
#जीवन साथी के संग बफा निभाएं
#
homosex, heterosex,groupsex,oralsex&analsex से मीलों दूर रहें.
# जहाँ तक सम्भव हो विद्यार्थी ब्रह्मचर्य-धर्म का पालन करें.
जो एड्स के रोगी हैं :--

उन्हें उचित मान-सम्मान दे
उन्मे जीने की ललक पैदा करें
उनसे ये कहो की ---
" जबतक है साँस जिंदगी की

तबतक हँसते-गाते रहो !

शेष बहुत है लम्हें कारवां के,

बस जीने की ललक जागते रहो ! "

उन्हें रस-गंध-स्पर्श का फ़िर से एहसास कराओ!
उन्हें प्यार देकर कहो की जिंदगी अभी भी
बहुत खुबसूरत है किसी नई-नवेली दुल्हन की तरह!

"अपने हाथों में लेके तेरे हाथ चलेंगे!
तू दिल अपना छोटा न कर
हम हर पल तेरे साथ चलेंगे! "





Tuesday, November 3, 2009

JINDAGI TERI TALASH HAR KISI NE KI

jindagi teri talash har kisi ne ki

dhundh lun rahasya jivan ke
khoj lun piyush antarman ki
ye utkat abhilash har kisi ne ki
jindagi teri talash har kisi ne ki.


tu anbujh paheli hai ye koi abhi tak jaan na paya
kahan tera bimb aur kahan teri pratichhaya
tere hone na hone ki ehsas har kisi ne ki
jindagi teri talash har kisi ne ki.


tu path nahi, tu manjil nahi
tu dimag nahi, tu dil nahi
tu kasti nahi, tu sahil nahi
tu durlabh nahi, tu hasil nahi
tu kya?... tu hi jane..
duniyan tujhe dard-dua maane
tu hari mirchi, tu taza shahad
teri anmol sukh-dukh ki mithas har kisi ne li
jindagi teri talash har kisi ne ki.


tu bhram paida kare
tu saty ujagar kare
tu sagar ko bund kahe
tu bund ko sagar kare
tumrig-trishna si
aankhon me jadu kare
tu hansini jaisi
pani dudh aagu kare
na samjha tujhe koi
tu hai to bhi roye
tu na rahe to bhi nain roi
tujhe dhundhne ki aas me
khud apna vinash har kisi ne ki.
jindagi teri talash har kisi ne ki.


main to kahun kya jarurat hai
tujhe dhundhne ki, tumse ulajhne ki.
tu kachche sut ki uljhi guthi
main to bhul na karun tujhe samajhne ki.
ye raaz... raaz hi rahe to behtar hoga.
varna insaan jina hi chhod dega.
"bhram ki jindagi achchhi bhali"
meri ye kori soch pe, e jindagi
dekh! uphaas har kisi ne ki.
jindagi teri talash har kisi ne ki.